Monday, February 19, 2018
Home > Latest post > अमेरिका को रिश्तों में तल्खी के बावजूद आतंक पर पाक का साथ मिलने की उम्मीद

अमेरिका को रिश्तों में तल्खी के बावजूद आतंक पर पाक का साथ मिलने की उम्मीद

वाशिंगटन :तल्ख होते रिश्तों के बीच अमेरिका ने पाकिस्तान से उम्मीद जताई है कि वह अपने यहां मौजूद आतंकी ठिकानों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगा। अमेरिका के उप-विदेश मंत्री जॉन जे सुल्‍लीवन ने कहा कि अमेरिका को उम्मीद है कि पाक क्षेत्र में शांति स्थापित करने में भी पूरा सहयोग करेगा।

हाल में ही अफगानिस्‍तान दौरे से लौटे अमेरिका के उप-विदेश मंत्री जॉन जे सुल्‍लीवन ने कहा कि’ हमने पाकिस्‍तान सरकार से अपनी उम्‍मीदों को स्‍पष्‍ट कर दिया है कि वहां मौजूद आतंकी ठिकानों के खिलाफ वे कार्रवाई करें, ताकि अफगानिस्‍तान में हिंसा के खतरे और दवाब को कम किया जा सके।’

आतंक के खिलाफ अमेरिका का समर्थन जारी रहेगा

उन्‍होंने अफगान राष्‍ट्रपति अशरफ गनी, चीफ एक्‍जीक्‍यूटिव अब्‍दुल्‍ला अब्‍दुल्‍ला, विदेश मंत्री सलाहुद्दीन रब्‍बानी व अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारियों से मुलाकात कीऔर कहा कि, ‘अफगानिस्‍तान में आतंकी संगठनों, अल कायदा, आइएसआइएस के खात्‍मे के लिए अमेरिका की ओर से अफगान सहयोगियों को समर्थन जारी रहेगा।‘

सुल्‍लीवन ने कहा कि अफगानिस्तान की उनकी यात्रा में उन्हें देश के साथ अपनी साझीदारी और अमेरिका की प्रतिबद्धता को फिर से मजबूत करने का अवसर मिला। उन्होंने इस बात पर अफसोस जताया कि इस चरण पर हर किसी के शांति चाहने के बावजूद तालिबान बातचीत के लिए इच्छुक नहीं दिख रहा है।

पाक के पास आतंक के खिलाफ लड़ाई का अच्छा मौका है

सुल्‍लीवन ने कहा कि उन्होंने अफगानिस्तान के नेताओं के साथ सुरक्षा सहयोग और तय समय पर राष्ट्रपति चुनाव कराने के लिए सलाह-मशविरा किया।

पेंटागन की मुख्य प्रवक्ता डाना वाइट ने भी कहा कि नई दक्षिण एशियाई रणनीति के तहत पाकिस्तान के पास आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में साझीदार बनने का अवसर है। उन्होंने कहा, कि पाकिस्तान आतंकवाद से पीड़ित रहा है और उसने आतंकवाद को सहयोग दिया है। हम चाहते हैं कि वह आतंकवाद का मुकाबला करने में सक्रिय भूमिका निभाए।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please wait...

Subscribe to our newsletter

Want to be notified when our article is published? Enter your email address and name below to be the first to know.