Monday, February 19, 2018
Home > Latest post > कासगंज हिंसा : बरेली DM के बाद महिला अफसर ने की FB पोस्ट, मचा बवाल

कासगंज हिंसा : बरेली DM के बाद महिला अफसर ने की FB पोस्ट, मचा बवाल

लखनऊ : कासगंज में गणतंत्र दिवस पर तिरंगा यात्रा में फैली हिंसा और उसमें चंदन की मौत के बाद भले ही शहर में शांति नजर आ रही हो लेकिन सोशल मीडिया में बवाल मचा हुआ है। बरेली के डीएम द्वारा की गई फेसबुक पोस्ट के बाद अब एक और अधिकारी की पोस्ट सामने आई है। इस महिला अधिकारी ने अपनी पोस्ट में चंदन की मौत के लिए भगवा को जिम्मेदार ठहराया है। महिला अफसर की इस फेसबुक पोस्ट के बाद नई बहस शुरू हो गई है।

खबरों के अनुसार उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में डिप्टी डायरेक्टर सांख्यिकी रश्मि वरुण ने कासगंज हिंसा को लेकर फेसबुक बम फोड़ दिया है। उन्होंने कासगंज हिंसा की तुलना सहारनपुर के मामले से करते हुए सोशल मीडिया पर अपने मन की बात लिखी है।

डिप्टी डायरेक्टर रश्मि वरुण ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा कि यह थी कासगंज की तिरंगा रैली। यह कोई नई बात नहीं है। इससे पहले भी डॉ. अम्बेडकर जयंती पर सहारनपुर के सड़क दूधली में भी ऐसी ही रैली निकाली गई थी। उसमें से अम्बेडकर गायब थे या कहिए कि भगवा रंग में विलीन हो गये थे। कासगंज में भी यह ही हुआ। तिरंगा गायब और भगवा शीर्ष पर। जो लड़का मारा गया, उसे किसी दूसरे तीसरे समुदाय ने नहीं मारा। उसे केसरी, सफेद और हरे रंग की आड़ लेकर भगवा ने खुद मारा।

पोस्ट में आगे लिखा कि जो नहीं बताया जा रहा वह यह है कि अब्दुल हमीद की मूर्ति पर तिरंगा फहराने की बजाये रैली में चलने की जबरदस्ती की गई। केसरिया, सफेद, हरे और भगवा रंग पे लाल रंग भारी पड़ गया। डिप्टी डायरेक्टर की पोस्ट की चर्चा बड़े अफसरों में जोरशोर से हो रही है।

अफसरों का रुख सरकार की चुनौती

कुछ अफसरों का रुख प्रदेश की भाजपा सरकार के लिए चुनौती बन रहा है। अभी डीएम बरेली का मामला निपटा नहीं है कि सहारनपुर की डिप्टी डायरेक्टर की पोस्ट चर्चा का विषय बन गई है। विपक्ष पहले ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खेाले है।

पोस्ट में कुछ भी गलत नहीं लिखा : डिप्टी डायरेक्टर

फेसबुक पोस्ट में ऐसी कोई बात नहीं लिखी गई है जो किसी के खिलाफ हो। हमारे कहने का सिर्फ इतना आशय है कि गणतंत्र दिवस मनाने का सभी को अधिकार है। इसमें पहले या बाद में मनाने का कोई मतलब नहीं होना चाहिए।

जैसा कि मुझे पता लगा है कि कासगंज में दोनों पक्षों के बीच 26 जनवरी मनाने को लेकर विवाद शुरू हुआ। व्हाट्सएप पर कोई गलत मैसेज चलता है तो उसे रोकने की पहल नहीं होती, बल्कि वायरल होता चला जाता है। इससे माहौल बिगडने के हालात पैदा होते हैं।रही बात डीएम बरेली आर विक्रम सिंह की तो मेरा मानना है कि उन्होंने अपनी पोस्ट में ऐसा कुछ नहीं लिखा था, जिससे किसी की भावना को ठेस पहुंचे।

सहारनपुर में तैनात महिला अफसर ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि चंदन गुप्ता को खुद भगवा ने मारा है। सहारनपुर की डिप्टी डायरेक्टर सांख्यिकी रश्मि वरुण ने फेसबुक पोस्ट में कासगंज हिंसा की तुलना सहारनपुर के मामले से की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please wait...

Subscribe to our newsletter

Want to be notified when our article is published? Enter your email address and name below to be the first to know.